Wednesday, 30 January 2013

प्रशासनिक भवन का उद्घाटन

बेलसंड। प्रखंड के चंदौली स्थित संकुल संसाधन केन्द्र कन्या मध्य विद्यालय के प्रशासनिक भवन का उद्घाटन विधायक सुनीता सिंह चौहान द्वारा फीता काट कर किया गया। इस विद्यालय से क्षेत्र के 18 विद्यालयों का संचालन होता है। बताया गया है कि प्रति माह यहां सभी शिक्षकों की बैठक की जाती है। जिसमें शिक्षकों को शिक्षा संबंधी प्रशासनिक जानकारियां दी जाती है। इस कार्य हेतु विद्यालय में प्रशासनिक भवन की आवश्यकता थी। भवन उद्घाटन होने से शिक्षकों में हर्ष व्याप्त है। मौके पर जद यू किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष राणा रणधीर सिंह चौहान, मुखिया नीतू सिंह, व्यापार मंडल अध्यक्ष, मनीष कुमार सिंह, जदयू प्रखंड अध्यक्ष राम प्रवेश भगत, अशोक कुमार सिंह, रामाकांत सिंह, कौशल किशोर सिंह, सुजीत कुमार सिंह, मुकुल कुमार सिंह आदि मौजूद थे।

Tuesday, 29 January 2013

बेलसंड विधायक ने किया पुलिया का शिलान्यास

बेलसंड। चंदौली पचनौर पथ में 18 लाख 55 हजार की लागत से बनने वाली आरसीसी पुलिया का शिलान्यास विधायक सुनीता सिंह चौहान व जदयू किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष राणा रणधीर सिंह चौहान द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। ग्रामीण कार्य प्रमंडल पुपरी द्वारा कराए जा रहे इस कार्य का शिलान्यास के दौरान विधायक ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि विकास के कायरे को संपन्न कराने में व्यक्तिगत प्रशंसा होती है। बाढ़ और बरसात से त्रस्त विधान सभा क्षेत्र में विकास होने पर खुशी होती है। मौके पर संवेदक राघवेन्द्र कुमार सिंह, मुखिया नीतू सिन्हा, मनीष कुमार सिंह, अरविन्द कुमार सिंह, कौशल किशोर सिंह, सुजीत कुमार सिंह उर्फ प्यारे, श्याम बाबू प्रसाद, मो. मेराज, मो. इब्राहिम समेत सैकड़ों लोग मौजूद थे।

अनूठे सौंदर्य का प्रतीक है सिक्की कला

बेलसंड। बिहार की सिक्की घास की कला महिला उद्यमिता और हस्तशिल्प के अनूठे सौंदर्य का प्रतीक है। भारी बारिश के बाद पानी में डूबे क्षेत्रों में उपजने वाली सिक्की घास के फूल से निर्मित हस्तशिल्प, घरेलू उपयोग के सामान, डलिया आदि मिथिलांचल क्षेत्र मधुबनी, दरभंगा और सीतामढी और उत्तर बिहार के अन्य कई जिलों में काफी प्रचलित हैं। इस वर्ष गणतंत्र दिवस परेड के अवसर पर दिल्ली में राजपथ की मनोहारी झांकियों में शामिल इस कला ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर लिया था। मिथिलांचल क्षेत्र में यह कला कुटीर उद्योग का रूप ले चुकी है। मिथिलांचल की सिक्की कला की जानकार रानी झा बताती हैं कि अपने विशिष्ट सौंदर्य के कारण सिक्की से निर्मित घरेलू उपयोग की डलिया, डोलची और अन्य सजावट के सामान शहरों में भी बड़े घरों में सजावट के सामान के रूप में लोकप्रिय हो रहे हैं। वह कहती है कि यह मिथिलांचल की गरीबी का सौंदर्य है और लोगों की कठिन परिस्थितियों में रहने वाली जीवनशैली से प्रमुखता से उभर कर निकला है। गरीबी और कठिन परिस्थितियों में कला किस प्रकार जन्म लेती है और पहचान बनाती है सिक्की कला इसका प्रतीक है। ग्रामीण अर्थव्यवस्था में सिक्की घास, खर और मूंज घास समाज के गरीब और महिला वर्ग को भी सहारा देते हैं। दलित और गरीब तालाब, दियारा और पोखरों में उपजी घास को काटकर हाट में बेचते हैं। बाद में बनी हुई कलाकृतियां भी बाजार में बिकती हैं और महिलाओं के आय का स्रोत बनती हैं।
रानी के अनुसार मधुबनी के पंडौल प्रखंड के सरहद शाहपुर, सरसो पाही, झंझारपुर के उमरी और रहिका के लहेरियागंज में सिक्की कला के कई कारीगर हैं। हालांकि आधुनिकता और पश्चिमी सभ्यता के प्रचलित सामानों ने सिक्की कला और उसके निर्मित सामानों को पीछे धकेलने का कार्य किया है। लेकिन इस कला को यदि सरकारों की ओर से संरक्षण और बढावा दिया जाए तो यह काफी बेहतर तरीके से फलफूल सकेगी और देश के साथ ही विदेशों में भी लोकप्रिय हो सकती है। सिक्की कला की विशेषज्ञ कहती हैं कि आधुनिक कलाकार समय के अनुरुप सिक्की कला को परिवर्तित कर रहे हैं अब वे फूलदान, पेन स्टैंड, कुशन, पेपरवेट, कान की बाली, अंगूठी और चूडिय़ां आदि भी बनाकर सिक्की की कला के स्वरुप को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। अपने सुनहरे रंग के कारण सिक्की सुनहरी घास :गोल्डेन ग्रास: की कला के रूप में भी जानी जाती है। सिक्की घास के साथ दो अन्य घास मंूज और खर का भी उपयोग होता है। लोहे का बना तकुआ, सुई, छुरी और कैंची की मदद से ही सिक्की के हस्तशिल्प का काम होता है मधुबनी की चित्रकला की तरह ही सिक्की कला की प्रसिद्ध कलाकारों में लहेरियागंज की दौलत देवी, शाहपुर की रेणु देवी, सरसोपाही की मुन्ना खातून तथा सुधा देवी और जौनगढ की नाजो खातून ने मधुबनी क्षेत्र का सिक्की कला में नाम रौशन किया है। समय के साथ सिक्की कला ने विविधता के तौर पर आइने के फ्रेम, टेबल मैट, हाथ पंखा, पौउती :ट्रे:, मौनी, खिलौने आदि स्वरुपों में स्वयं को ढाल लिया है। सिक्की मिथिलांचल में सांस्कृतिक उत्कृष्टता का भी प्रतीक है। मिथिलांचल में जिस घर से बेटी विवाह के बाद मायके से विदा होती है यदि सिक्की कला से बने सामान दिए जाते हैं तो माना जाता है कि उसका घर परिवार सुसंस्कृत और कला के प्रति समर्पित होगा। सिक्की घास को गर्म पानी में उबाल उसे रंगा जाता है तब रंग बिरंगे साजो सामान बनते हैं। इस कारण से यह पर्यावरण के अनुकूल होता है। रानी झा कहती हैं कि सरकार की उदासीनता के कारण इस कला को व्यवस्थित रूप नहीं मिल पाया है। कलाकारों को सही पारिश्रमिक नहीं मिलता है। एक प्रसिद्ध कलाकार मनोहर देवी ने उम्र दराज होने के कारण कला को छोड दिया। कुछ मुस्लिम महिला कलाकारों का भी काफी योगदान रहा है। नाजो खातून देवी काली और भगवान शिव की मूर्ति बनाने में महारत हासिल कर चुकी हैं। शहरों में कला के अच्छे कद्रदान रहने के कारण कलाकारों की बनाई गई वस्तुएं 500 से 1000 रुपए तक में बिक जाती हैं लेकिन ग्रामीण अंचलों में यह अधिक ायदेमंद नहीं है।

रामप्रवेश बने बेलसंड जदयू अध्यक्ष

बेलसंड। रविवार को बेलसंड पूर्वी मठ के प्रांगण में जदयू के चुनाव प्रभारी नागेन्द्र झाकी उपस्थित में कार्यकर्ताओं की बैठक संपन्न हुई। सर्वसम्मति से भंडारी पंचायत के मुखिया राम प्रवेश भगत को जदयू का प्रखंड अध्यक्ष चुना गया। बेलसंड प्रमुख अनिल कुमार गुप्ता ने राम प्रवेश भगत का नाम अध्यक्ष पद के लिए प्रस्तावित किया। जिसका समर्थन व्यापार मंडल के अध्यक्ष मनीष कुमार सिंह ने किया। सर्वसम्मति से जिला कार्यकारणी के 14 सदस्यीय कमेटी का भी चयन किया गया। जिसमें सुनीता सिंह, अनिल गुप्ता, श्याम सहनी, मो. जुबैर, शीला देवी, नवीन सिन्हा, महेन्द्र, कौशल किशोर सिंह, अशोक सिंह, मो. कादिर अंसारी, भाग्य नारायण झा, राम भजन सहनी, दिलीप सिंह, वीरेन्द्र सहनी इत्यादि शामिल है। अध्यक्ष चुने जाने के बाद जदयू के चुनाव प्रभारी नागेन्द्र झा ने कहा कि हम आशा करते हैं कि रामप्रवेश भगत पूरी निष्ठा से पार्टी हित में जाति-पाति से उपर उठकर फैसला करेंगे। उन्होंने सभी कार्यकर्ताओं को आगामी चुनाव के लिए रणनीति अभी से बनाने की बात कहीं।

शान से लहराया तिरंगा

बेलसंड। गणतंत्र दिवस के पावन मौके पर पूरा शहर तिरंगे के रंग में सराबोर हो गया। देशभक्ति गीतों की आवाजें और हर चेहरे पर खुशियां। जलेबी की दुकानों में लंबी-लंबी कतारें और बैलून की दुकानों पर भी कुछ ऐसा ही माहौल। देश के साथ राज्य और शहर भी गणतंत्र पर्व मना रहा था। बेलसंड नगर पंचायत में मुख्य पार्षद नागेंद्र झा ने नगर पंचायत कार्यालय में झंडोत्तोलन किया और पुलिसकर्मियों की सलामी ली। इस अवसर पर मुख्य पार्षद ने बच्चों को अपने हाथों में से जलेबियां खिलाई और उन्हें पढ़ लिख कर समाज के जिम्मेदार नागरिक बनने का आशीर्वाद दिया। गणतंत्र दिवस के अवसर पर बेलसंड वासियों को शुभकामना देते हुए मुख्य पार्षद ने बेलसंड मेंं सदभाव व भाईचारे का वातावरण कायम रखने और बेलसंड को विकसित शहरों की श्रेणी में खड़ा करने में भरपूर सहयोग देने के लिए लोगों का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि नगर प्रशासन के सार्थक पहल से बेलसंड नगर पंचायत में सभी क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। बेलसंड नगर पंचायत बेलसंड का विकास कर उसे विकसित शहर की श्रेणी में लाने के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने ने कहा कि बेलसंड के चतुर्दिक विकास के लिए आवश्यक था कि शांति व्यवस्था एवं सदभाव का माहौल कायम किया जाए। नगर प्रशासन के समुचित प्रयासों से शांति व्यवस्था की स्थिति में व्यापक सुधार हुआ है और बेलसंड में विधि व्यवस्था को दुरूस्त करते हुए कानून का राज्य स्थापित किया गया है। उन्होंने कहा कि बेलसंड नगर पंचायत में अपराध पर प्रभावकारी रूप से अंकुश लगाने के निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं और अपराध की घटनाओं में लगातार कमी आ रही है। लोग भयमुक्त वातावरण में जीवन यापन कर रहे हैं। इस अवसर पर नगर पंचायत कार्यालय पर सभी पार्षद,एसडीएम मौजूद थे।
वहीं, अनुमंडल कार्यालय में अनुमंडल पदाधिकारी डा. विद्यानंद सिंह ने प्रखंड कार्यालय बेलसंड में प्रमुख अनिल कुमार गुप्ता, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में प्रभारी डा. केसी मिश्र, बाल विकास परियोजना कार्यालय में सीडीपीओ प्रतिभा कुमारी, भारतीय स्टेट बैंक में शाखा प्रबंधक रवि शंकर प्रसाद, बेलसंड थाना में थानाध्यक्ष संतोष कुमार शर्मा, निबंधन कार्यालय में डा. विद्यानंद सिंह, कोठी चौक स्थित मुसहर टोल में विफई मांझी, निजाम इंटर प्राइजेज में पूर्व सांसद अनवारूल हक, भूमि विकास बैंक बेलसंड के अध्यक्ष डा. जीके झाए राजद कार्यालय में जग्रन्नाथ रायए लोहिया आश्रम में राज मंडल राय, कांग्रेस कार्यालय में अध्यक्ष सच्चिदानंद सिंह, भाजपा ग्रामीण कार्यालय में प्रवीण कुमार, भाजपा नगर कार्यालय में अध्यक्ष संदीप कुमार राय, जद यू नगर कार्यालय में अध्यक्ष श्याम बाबू प्रसाद ने शिक्षांजलि में राम निवास शर्मा, हिमालय पब्लिक स्कूल में निदेशक चंदन किशोर ने झंडोत्तोलन किया।

Wednesday, 23 January 2013

भाकपा की बैठक में राजनीतिक गतिविधियों पर चर्चा

बेलसंड। भारतीय कम्युनिष्ट पार्टी अंचल कमेटी की बैठक बुधवार को विजय कुमार बैठा की अध्यक्षता में पूर्वी मठ के प्रांगण में संपन्न हुई। बैठक को संबोधित करते हुए पार्टी के जिला पर्यवेक्षक केदार शर्मा ने वर्तमान राजनीतिक गतिविधियों पर विस्तार से चर्चा की। बाद में पार्टी नेता कैप्टन राम सेवक राय एवं किसान नेता बलिराम ठाकुर के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई । बैठक में 11 फरवरी को जनता के सवाल पर प्रखंड सह अंचल कार्यालय के प्रांगण में धरना का निर्णय किया गया। मौके पर गणोश भंडारी, विनय मंडल, गोपाल झा, योगेन्द्र साह, राम सागर ठाकुर, सूर्य देव भगत व रामचन्द्र बैठा उपस्थित थे।

जदयू का सांगठनिक चुनाव पूर्ण

बेलसंड। प्रखंड में जदयू का पंचायत स्तरीय सांगठनिक चुनाव पूर्ण हो गया। प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी नागेन्द्र झा ने सभी पंचायतों में अध्यक्ष व डेलीगेट के निर्वाचित सदस्यों को प्रमाण पत्र वितरित किया। निर्वाचन में डुमरा पंचायत से अरुण कुमार सिंह, नगर पंचायत बेलसंड से श्याम बाबू प्रसाद, पताही पंचायत से मोती साह, रूपौली पंचायत से वृजनंदन राय, जाफरपुर पंचायत से मो. जाहीर, लोहासी पंचायत से ब्रव0161ादेव राय, पंचनौर पंचायत से मो. सहरूद्दीन अंसारी, भंडारी पंचायत से लक्ष्मी पटेल, चंदौली पंचायत से मो. मेराज व कंसार पंचायत से इन्द्र नंदन झा अध्यक्ष निर्वाचित हुए। उधर परसौनी प्रतिनिधि के अनुसार प्रखंड क्षेत्र के जद यू का संगठनात्मक चुनाव संपन्न हो गया है। चुनाव प्रभारी राजेश कुमार व पर्यवेक्षक धीरेन्द्र पटेल द्वारा पंचायत पर्यवेक्षकों के देखरेख में संगठन का चुनाव कराया गया है। परसौनी मैलवार पंचायत के अध्यक्ष पद पर बैद्यनाथ ठाकुर व डेलीगेट पद पर संतोष साह व मुमताज हुसैन चूने गए है। परसौनी खिरोधर से अध्यक्ष प्रमोद पटेल, डेलीगेट शत्रुध्न झा व सैरूल हुसैन, कठोर पंचायत से अध्यक्ष विन्देश्वर राय, डेलीगेट रूपजी पांडेय व राम बालक राय, गिसारा से अध्यक्ष महेन्द्र साह, डेलीगेट विनय साह व मो. इस्लाम अंसारी, देमा से अध्यक्ष देवेंद्र सिंह, डेलीगेट अमित कुमार सिंह व दीपक कुमार पासवान, मदनपुर से अध्यक्ष भोला साह, डेलीगेट रामानुज सिंह, सुमित्र देवी तथा परशुरामपुर पंचायत से राजेन्द्र दास अध्यक्ष व डेलीगेट सदस्य के रूप में हरि नारायण सिंह व शंकर राय को निर्वाचित घोषित किया गया है।

बिजली आपूर्ति की स्थिति होगी बेहतर : डीएम

बेलसंड। जिले में विद्युत आपूर्ति में सुधार के लिए डीएम डा. प्रतिमा एसके वर्मा ने कार्यपालक अभियंता को कड़े निर्देश दिए है। शहर में विद्युत आपूर्ति की स्थिति बेहतर करने के लिए डीएम ने विभाग को आग्रह पत्र भेजने की बात कही है। समाहरणालय के सभागार में मंगलवार को आयोजित बैठक के दौरान डीएम ने कहा कि जिले में विद्युत आपूर्ति में सुधार होनी चाहिए। इसके लिए विद्युत विभाग के कार्यपालक अभियंता को निर्देश देते हुए कहा कि जले ट्रांसफार्मर की सूची बनाएं और इसे एक अभियान के तहत नए ट्रांसफार्मर लगाए। उन्होंने बिजली के बड़े बकायेदारों के विरुद्ध कार्रवाई का भी निर्देश दिया। जिला निलाम पदाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि बड़े बकायेदारों के विरुद्ध निलामवाद दायर करे। नलकूप विभाग के कार्यपालक अभियंता को सभी नलकूपों की भौतिक सत्यापन कर रिपोर्ट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। जिला कृषि पदाधिकारी को शत प्रतिशत कृषि यांत्रिकरण का लक्ष्य पुरा करने का निर्देश दिया। जिला उद्यान पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि उपलब्ध राशि को खर्च करे और लाभार्थियों की सूची उपलब्ध कराएं। ताकि जांच करायी जा सके। वही भू-जल सिंचाई योजना व केसीसी के लक्ष्य प्राप्ति को लेकर डीडीसी को निर्देश दिया गया। मौके पर डीडीसी मनोज कुमार सिंह, जिला कृषि पदाधिकारी सुरेन्द्र प्रसाद समेत कई अधिकारी मौजूद थे। विधि-व्यवस्था के मद्देनजर बगैर अनुमति के लाउड स्पीकर बजाए जाने पर विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए सभी अधिकारियों को निर्देश दिया गया है। विधि-व्यवस्था में खलल डालने वाले को चिन्हित कर उनके विरुद्ध विधि सम्मत कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। समाहरणालय स्थित डीएम कार्यालय कक्ष में आयोजित बैठक के दौरान डीएम डा. प्रतिमा एसके वर्मा ने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया है। कहा है कि 107 की कार्रवाई करे एवं एक लाख की राशि से कम का बांड पत्र न ले। सामन्य स्थिति में बांड पत्र की राशि 50 हजार से कम नही होनी चाहिए। डीएम ने विधि-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सभी बीडीओ को संबंधित थानाध्यक्षों के साथ बैठक कर संवेदनशील स्थलों को चयनित करने एवं सर्तकता बरतने का निर्देश दिया है। इसके तहत आगामी सरस्वती पुजा के मद्देनजर शांति समिति की बैठक आयोजित कर स्थानीय स्तर पर उत्पन्न समस्याओं का निदान करने को कहा। किसी भी स्थिति में जिला बदर व सीसीए की कार्रवाई में कोताही नही बरती जाएगी। सरस्वती पुजा को लेकर मूर्ति स्थापित होने वाली सभी जगहों की जानकारी थानाध्यक्ष, बीडीओ व सीओ को लेनी होगी। डीएम ने अधिकारियों को मूर्ति स्थापित होने वाले स्थलों पर पैनी नजर रखने एवं असमाजिक तत्वों के विरुद्ध त्वरित कार्रवाई का निर्देश दिया। मौके पर अपर समाहत्र्ता शिवदानी सिंह, उप विकास आयुक्त मनोज कुमार सिंह, सदर एसडीओ राजेश कुमार, बेलसंड एसडीओ डा. विद्यानंद सिंह, पुपरी एसडीओ उज्जवल कुमार, डीसीएलआर राकेश कुमार गुप्ता आदि मौजूद थे।

Monday, 21 January 2013

बर्फी के मिठास में डूबा फिल्मफेयर अवार्ड

फिल्मफेयर अवार्ड समारोह में इस साल मीठी 'बर्फीÓ ने भरपूर मिठास घोली और सर्वश्रेष्ठ फिल्म और सर्वश्रेष्ठ अदाकार सहित छह पुरस्कार बटोरे। वहीं, सस्पेंस से भरपूर 'कहानीÓ ने पांच पुरस्कारों को अपनी झोली में कर उसे कड़ी टक्कर दी। अनुराग बासु निर्देशित 'बर्फीÓ भारत की ओर से आस्कर की दौड़ में भी रह चुकी है। गंूगे - बहरे नायक और ऑटिस्टिक लड़की की दिल को छू लेने वाली इस फिल्म के लिए इलियाना डिकू्रज को सर्वश्रेष्ठ नवोदित अदाकारा का पुरस्कार मिला। सर्वश्रेष्ठ पाश्र्व संगीत और सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का पुरस्कार प्रीतम को फिल्म बर्फी के लिए मिला जबकि इसी फिल्म के रजत पोद्दार को सर्वश्रेष्ठ प्रोडक्शन डिजाइन का पुरस्कार मिला। सुजॉय घोष की 'कहानीÓ और जान अब्राहम की होम प्रोडक्शन की पहली फिल्म 'विक्की डोनरÓ ने न केवल दर्शकों का दिल जीता बल्कि उपनगर अंधेरी के यशराज फिल्म्स स्टुडियो में बीती रात आयोजित 58वें फिल्मफेयर पुरस्कार समारोह में भी छाए रहे। सर्वश्रेष्ठ अदाकारा की श्रेणी में विद्या बालन का जलवा एक बार फिर बरकरार रहा और उन्हें फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अदाकारा का पुरस्कार मिला। सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का खिताब सुजॉय घोष को मिला जबकि संजय मौर्या और ऑलविन रेगो को सर्वश्रेष्ठ साउंड डिजाइन का पुरस्कार मिला। 'कहानीÓ को दो बड़े पुरस्कार नम्रता राव ने सर्वश्रेष्ठ एडिंटिंग
टाइटल में और सर्वश्रेष्ठ सिनेमेटोग्राफी में सेतु ने दिलाए। 'विक्की डोनरÓ में डॉ. चड्डा के किरदार के लिए अन्नु कपूर को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार मिला। इसी फिल्म की लेखिका जूही चतुर्वेदी को सर्वश्रेष्ठ कहानी के लिए पुरस्कार मिला। 'विकी डोनरÓ से अपने अभिनय कॅरियर की शुरूआत करने वाले आयुषमान खुराना को सर्वश्रेष्ठ नवोदित अभिनेता और सर्वश्रेष्ठ पाश्र्वगायक का पुरस्कार मिला। गायन के लिए उन्हें यह पुरस्कार गीत 'पानी दा रंगÓ के लिए दिया गया है। अनुष्का शर्मा को 'जब तक है जानÓ में उनके किरदार के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री का पुरस्कार मिला। गुलजार को 'जब तक है जानÓ फिल्म में गीत 'छल्लाÓ के लिए सर्वश्रेष्ठ गीतकार का पुरस्कार दिया गया। 'इंग्लिश विंग्लिशÓ की निर्देशिका गौरी शिंदे को सर्वश्रेष्ठ नवोदित निर्देशक का पुरस्कार मिला। सर्वश्रेष्ठ संवाद पुरस्कार 'गैंग्स ऑफ वासेपुरÓ के लिए संवाद लिखने वाले अनुराग कश्यप, अखिलेश जायसवाल, सचिन के लाडिया और जीशान कादरी को मिला। सर्वश्रेष्ठ पटकथा का पुरस्कार 'पान सिंह तोमरÓ के लिए संजय चौहान और तिग्मांशु धूलिया को दिया गया। सर्वश्रेष्ठ पाश्र्वगायिका के लिए फिल्म 'इश्कजादेÓ में 'परेशानÓ गीत गाने वाली शाल्मली खोलगडे को चुना गया। 'गैंग्स ऑफ वासेपुरÓ के लिए शाम कौशल को सर्वश्रेष्ठ एक्शन का पुरस्कार दिया गया। सर्वश्रेष्ठ नृत्यनिर्देशन के लिए 'एक मैं और एक तूÓ के गाने 'आंटी जीÓ को चुना गया और बोस्को-सीजर को पुरस्कृत किया गया। आरडी बर्मन पुरस्कार नीति मोहन को दिया गया जबकि लाईफ टाईम अचीवमेंट पुरस्कार दिवंगत फिल्मकार यश चोपड़ा को दिया गया। माधुरी दीक्षित नेने ने यह पुरस्कार चोपड़ा की पत्नी पामेला को दिया। माधुरी अपने कॅरियर की सफलतम फिल्मों में से एक 'दिल तो पागल हैÓ में यश चोपड़ा के साथ काम कर चुकी हैं। पिछले साल अपनी अंतिम फिल्म 'जब तक है जानÓ के प्रदर्शित होने से कुछ ही सप्ताह पहले चोपड़ा का निधन हो गया था। शाहरूख खान, कैटरीना कैफ और अनुष्का शर्मा अभिनीत यह फिल्म काफी हिट रही थी। फिल्मफेयर का समीक्षक पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए इरफान खान को और सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के लिए रिचा चड्ढा को दिया गया। इरफान खान को यह पुरस्कार 'पान सिंह तोमरÓ के लिए जबकि रिचा चड्ढा को 'गैंग्स ऑफ वासेपुरÓ के लिए दिया गया। फिल्मफेयर के इस समारोह में सितारों का आना शाम साढ़े सात बजे से ही शुरू हो गया था। अपनी पारंपरिक सुनहरे लाल रंग की साड़ी में रेखा बहुत खूबसूरती से चलीं। काले रंग के परिधान में सजीं माधुरी दीक्षित अपने पति श्रीराम नेने के साथ समारोह में आईं। परिणीति चोपड़ा भी काले रंग के परिधान में काफी ग्लैमरस नजर आ रही थीं। इन सितारों के अलावा पुरस्कार समारोह में विद्या बालन, गौरी शिंदे और उनके पति आर बाल्की, आर माधवन, मनोज बाजपेई, कुनाल कोहली, सोनाली बेंद्रे और गोल्डी बहल, यामी गौतम, आयुशमान खुराना और डेविड धवन मौजूद थे।

समकालीन अभियान में दो धराए

बेलसंड। रीगा पुलिस ने समकालीन अभियान के तहत शनिवार की देर शाम थाना क्षेत्र के खरसान गांव में छापेमारी कर स्थायी वारंटी किशोरी पासवान को गिरफ्तार कर लिया। वहीं रीगा गांव से कांड संख्या 146 के आरोपी नागेंद्र सहनी को भी धर दबोचा। रविवार को दोनों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। छापेमारी का नेतृत्व थानाध्यक्ष राजेश चौधरी ने किया। वहीं दल में धीरज कुमार सिंह व सुनील कुमार श्रीवास्तव के अलावा सशस्त्र बल शामिल थे।

110 छात्र को मिली पोशाक की राशि

बेलसंड। प्राथमिक विद्यालय ब्रह्मा स्थान मांची में समारोह आयोजित कर छात्र-छात्राओं के बीच पोशाक राशि एवं अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं के बीच छात्रवृति का वितरण किया गया। शिक्षा समिति के अध्यक्ष अविनाश कुमार, सचिव आशा देवी समेत ग्रामीण ब्रज किशोर सिंह, शंकर सिंह, गिरजानंद सिंह, सांसद प्रतिनिधि सुनील कुमार सिंह, साधन सेवी कमलेश कुमार सिंह की उपस्थिति में प्रधानाध्यापिका किरण कुमारी ने वर्ग एक व दो के 47 छात्र-छात्राओं को पोशाक राशि चार सौ रुपये प्रति छात्र की दर से एवं तीसरा से पांचवां वर्ग के 63 छात्र-छात्राओं को पोशाक राशि पांच सौ रुपये प्रति छात्र की दर से वितरित किया गया। इस समारोह में अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राओं में एक से चतुर्थ वर्ग की 48 छात्र-छात्राओं को छह सौ रुपये प्रति छात्र की दर से एवं छात्र-छात्राओं को 1200 रुपये प्रति छात्र की दर से भुगतान किया गया। मौके पर विद्यालय के शिक्षक एवं अभिभावक गण भी मौजूद थे।

Saturday, 19 January 2013

शादी : पारंपरिकता पर हावी आधुनिकता

दिलीप झा की रिपोर्ट
बेलसंड। शादी के अवसर पर दुल्हन के संजने-संवरने की परंपरा पुरानी रही है, लेकिन आधुनिकता के इस दौर में सजावट की आधुनिक तकनीक कुछ ज्यादा हावी हो गई है। हाथों में मेहंदी हो या आंखों में लेंस। बालों का कर्ल और चेहरों पर मेकअप। ब्यूटी पार्लर के जरिए दुल्हन की साज सज्जा का क्रेज बढ़ गया है। भले ही इसके लिए मोटी रकम खर्च करनी पड़ती हो। सीतामढ़ी शहर में दुल्हन की सजावट के लिए तीन हजार से पांच हजार तक पार्लर में लिए जाते है। यह बात दीगर है कि अब दुल्हें भी इस मामले में पीछे नही है। बरात जाने से पहले विभिन्न ब्यूटी पार्लर में जा कर सजनें का क्रेज दुल्हों में खूब बढ़ा है। डोली कहार बिन दुल्हन चली ससुराल
चलो रे डोली उठाओ कहार, पिया मिलन की रूत आई...। कभी शादी विवाह के अवसर पर बजने वाला यह गीत अब जहां रेडियो-टीवी पर ही सुनने को मिलता है। गीत की प्रासंगिकता इतिहास के पन्नों में कैद हो कर रह गई है। अब न तो डोली दिखता है और नही कहार ही। रामायण काल में मां जानकी की शादी की बात हो या फिर महाभारत काल में। डोली कहार का इतिहास देश की संस्कृति के इतिहास के समान है। भारत में कहार नामक एक खास जाति है, जिनका मुख्य पेशा ही डोली उठाकर कन्या को उसके पिया के घर पहुंचाना रहा है। लेकिन परंपरा पर हावी होती आधुनिकता व लगातार बढ़ रहे पाश्चात्य संस्कृति के प्रभाव डोली प्रथा का बंटाधार कर दिया है। हाईटेक युग में डोली की जगह बेसकीमती कारों ने ले ली है। दुल्हा अब हाथी घोड़ा व पालकी की बजाए बेसकीमती कार पर शादी रचाने जाते हैं। यहां तक की कुछ जगहों पर हेलीकॉप्टर से दुल्हन को लाने में अपने शान लोग समझते हंै। मानिकचौक गांव के निवासी रामप्रवेश कहार की उम्र ७0 वर्ष हो चुकी है, जवानी के दिनों में वे खुद डोली उठाते थे, लेकिन उनकी अगली पीढिय़ां परदेश में मजदूरी करते है। बताते है कि डोली उठाने का प्रचलन बंद हो गया तो बच्चे क्या करते। साल 1960 के बाद से डोली की प्रथा उठने लगी जो अब लगभग समाप्त हो गई है। वहीं मुजफ्फरपुर के कांटी के रहने वाले गोपाल दास भी अपने पूर्वजों के पेशे को जिंदा न रख पाने के लिए अपने आपको कोसते हैं। दब गई शहनाई की गूंज
मांगलिक कार्यों पर गंूजती शहनाई की सुमधुर धुन व सधे हुए हाथों से बजती नौबत आज भी शहनाई के कद्रदानों के कानों में मिश्री सी मिठास घोलती नजर आती है।महज कुछ दशक पहले तक शादी-ब्याह में शहनाई बजती थी। वहीं समय के साथ शहनाई की रस घोलती मिठास बैंड-बाजों के धुन में दब गई। आज इसके कलाकार बेरोजगार होकर दर-दर के ठोकरें खा रहे हैं। इसके साथ ही कुछ कद्रदान इनकी तलाश करते भी हैं तो इनका अता-पता नहीं है।

सड़कें सुनसान रहीं, दुकान रहे बंद

बेलसंड/सीतामढ़ी। एरिया कमांडर नेक मुहम्मद व सुनील गुप्ता की निर्मम हत्या के विरोध में भाकपा माओवादी तिरहूत सब जोनल कमेटी के आह्वान पर घोषित बंद का जिले में व्यापक असर दिखा। नक्सल प्रभावित बेलसंड व रुन्नीसैदपुर के इलाकों में बंद से क‌र्फ्यू जैसा मंजर रहा। वहीं रीगा व परसौनी में बंद का आंशिक असर दिखा। हालांकि रुन्नीसैदपुर बाजार में बंद बेअसर रहा, वहीं दिन भर एनएच 77 पर आम दिनों की तरह वाहन चले। शाम ढ़लने के बाद एनएच पर वाहनों का परिचालन कम गया। इधर, बंद को लेकर रुन्नीसैदपुर व बेलसंड के इलाके में लोग डरे, सहमे व घरों में दुबके रहे। दुकान, बाजार, शैक्षणिक संस्थान व प्रतिष्ठान बंद रहे। सड़क पर वाहनों का परिचालन बंद रहा। एसपी पंकज सिन्हा के नेतृत्व में सशस्त्र बल इलाके में फ्लैग मार्च करते रहे। वहीं आजाद हिंद फौज नामक संगठन की धमका चौकड़ी भी रही। देर शाम तक बंद के दौरान किसी वारदात की सूचना नहीं है। बंद के दौरान सीतामढ़ी - शिवहर, रुन्नीसैदपुर - बेलसंड व बेलसंड - परसौनी पथ में वाहन नहीं चले। सड़के वीरान रही। माओवादियों के बंद का शहर में भले ही प्रभाव नहीं पड़ा, लेकिन गिद्धा, सिरखिरिया, बलुआ व महिंदवारा पंचायत के करीब सौ गांवों में बंद का व्यापक असर दिखा। सड़कें सुनसान रहीं, दुकान बंद रहे, लोग अपने घरों में दुबके - सहमे रहे। स्कूलों में ताले लटके रहे। एनएच 77 के कोआही व खनुआ घाट से नक्सली इलाकों में जाने वाली सड़क सुनसान रही। बेलसंड पथ में परिचालन पूर्णत: बाधित रहा। समय समय पर पुलिस वाहनों के काफिले के साथ पहुंच कर अपनी मौजूदगी का अहसास कराती रही। लेकिन पुलिस की मौजूदगी भी आम अवाम में सुरक्षा का अहसास कराने में नाकाम रही। बलुआ बाजार पर नक्सली नेता की हत्या के बाद लोगों की धड़कने बढ़ी हुई है। आजाद हिंद फौज की बाइक की आवाजाही भी परेशानी की वजह बनी है। नक्सली संगठन के लोगों की माने तो आजाद हिंद फौज उचक्कों का गिरोह है। इसका पुलिस से गठजोड़ है। इलाके में इनके पहुंचते ही पुलिस भी आ जाती है। बताते है कि पुलिसिया कवच से अलग अगर मिले तो काट कर रख दूंगा। मध्य विद्यालय बलुआ परिसर में नक्सली क‌र्फ्यू का जबरदस्त असर है। स्कूल में ताले लटके है। शिक्षक तबादला चाह रहे है। वजह नक्सली स्कूल बंद रखने की बात कह रहे है तो आजाद हिंद फौज के लोग स्कूल खोलने का दबाव डाल रहे है। दोनों के दबाव से शिक्षक परेशान है। इलाके में भाकपा माओवादी सब जोनल कमेटी की ओर से जगह जगह पर्चे चिपकाए गए है। उसमें बंद को सफल बनाने के अलावा नेक मुहम्मद व सुनील गुप्ता के हत्यारे को जन अदालत लगाकर फांसी देने की बात कही गई है। घटना के विरोध में किसान, छात्र व नवजवानों से एकजुट हो कर संघर्ष करने की अपील की गई है। बेलसंड में भाकपा माओवादी द्वारा आहूत बंदी का अनुमंडल क्षेत्र में व्यापक असर रहा। शहर से लेकर गांव तक बाजारों में वीरानगी छायी रहीं। दुकानें बंद रहीं। व्यवसाय चौपट रहा। बंद के चलते पूरे दिन लोगों को चाय पान के लिए भी परेशान होना पड़ा। इलाके में वाहनों का परिचालन पूरी तरह बाधित रहा। हालांकि शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस प्रशासन पूरी तरह चौकस रही। जगह-जगह सशस्त्र बल तैनात रहे। साथ ही फ्लैग मार्च जारी रहा। उधर, शिवहर जिले के पुरनहिया से सटे रीगा के सुदूर ग्रामीण इलाकों में भी बंद का असर दिखा।

Friday, 18 January 2013

पंचायत प्रतिनिधियों का प्रशिक्षण शुरू

बेलसंड। त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों का गैर आवासीय प्रशिक्षण कार्यक्रम पिछड़ा क्षेत्र विकास निधि के तहत स्थानीय किसान भवन में प्रारंभ हुआ। इसका उद्घाटन प्रमुख अनिल कुमार गुप्ता ने दीप प्रज्जवलित कर किया। कार्यक्रम में प्रशिक्षण हेतु विषय बार चार जिला संसाधन सेवी की प्रतिनियुक्ति की गई है। पंचायत प्रतिनिधियों के क्षमता वर्धन हेतु प्रेम रंजन शर्मा, पंचायती राज का उद्भव व विकास विषय पर मिथलेश कुमार जायसवाल, जिला परिषद का स्वरूप एवं कार्य कलाप आलोक कुमार व ग्राम कचहरी उनके कार्यकलाप एवं सीमाएं जय किशोर यादव जिला परिषद की स्थायी समितियां इत्यादि विषय की जानकारी प्रशिक्षण के दौरान देंगे। प्रथम दिन 73वां संशोधन अधिनियम एवं ग्राम सभा के आयोजन एवं ग्राम सभा में संपादित किए जाने वाले कायरे के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। प्रशिक्षण प्रतिदिन सुबह 9.30 बजे से संध्या 4.30 बजे तक चलेगा। प्रशिक्षण के दौरान प्रतिनिधियों को नोटबुक समेत नियमावली संबंधी तीन पुस्तक भी निशुल्क उपलब्ध कराया गया। प्रशिक्षण के मूल्यांकन के लिए यूनीसेफ के प्रतिनिधि संजीव कुमार भी उपस्थित थे। प्रशिक्षण में सभी 9 पंचायतों के मुखिया पंचायत समिति के सदस्य व सभी पंचायतों के वार्ड पार्षद उपस्थित थे।

अभियंताओं व संवेदकों को कठोर निर्देश दिए

बेलसंड। भोरहा लिंक रोड में महेन्द्र ठाकुर के घर के निकट आरसीसी पुलिया का शिलान्यास विधायक सुनीता सिंह चौहान व जदयू नेता राणा रणधीर सिंह चौहान द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। उक्त पुलिया का निर्माण मुख्यमंत्री सेतु योजना के तहत ग्रामीण कार्य प्रमंडल पुपरी द्वारा कराया जा रहा है। शिलान्यास के उपरांत एक सभा को संबोधित करते हुए राणा रणधीर सिंह चौहान ने क्षेत्र के विकास में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा गंभीरता पूर्वक सहयोग करने को लेकर उनके प्रति आभार प्रकट किया । उन्होंने कहा कि वषरे से क्षेत्र विकास से पीछे था। अनुमंडल मुख्यालय में पुल पुलिया के अभाव में लोगों को आवागमन में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता था। मुख्यमंत्री के कायरे की सराहना करते हुए उन्होंने आने वाले वषरे में क्षेत्र का पूर्ण विकास होने का आश्वासन दिया। मारर घाट में बागमती नदी पर करोड़ों रुपये की लागत से व रामनगर, दयानगर समेत दर्जनों पुलों का निर्माण कराकर लोगों को दिल से दिल जोड़ने का प्रयास लगातार जारी है। चंदौली घाट पर भी शीघ्र पुल निर्माण होने की बात कही गई। श्री चौहान ने निर्माण में गुणवत्ता को लेकर अभियंताओं व संवेदकों को कठोर निर्देश दिए। साथ ही स्थानीय लोगों को निर्माण कार्य की देखरेख करने का सुझाव दिया। मौके पर अभय नंदन झा, अमर नाथ सिंह, विमल कुमार चौधरी, शंभू साह, विनोद सिंह, सुजीत कुमार सिंह उर्फ प्यारे, राम दिनेश सिंह, मो. दुलारे, सुनील कुमार झा, मोती साह, शिव शंकर झा, भूप नारायण सिंह मौजूद थे।

Tuesday, 15 January 2013

बाबा इशाननाथ परजलाभिषेक को उमड़ी भीड़

बेलसंड। दमामी मठ स्थित बाबा इषाननाथ पर जलाभिषेक के लिए आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा । अनुमंडल मुख्यालय से लगभग पांच किमी की दूरी पर लोहासी पंचायत में अवस्थित भगवान शिव के इस सिद्ध पीठ पर जलाभिषेक के लिए सुबह 3 बजे से ही श्रद्धालुओं का जमघट लग गया। मंदिर प्रशासन श्रद्धालुओं को कतार वद्ध करने में दिन भर व्यस्त रहे। निधन पर शोक सभा बेलसंड। कांग्रेस कार्यालय में सच्चिदानंद सिंह की अध्यक्षता में प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी महेन्द्र सिंह के निधन पर शोक सभा आयोजित की गई। स्व. सिंह तरियानी थाने के सरवरपुर गांव के वासी थे। मौके पर पूर्व प्रमुख जैनुल आवेदिन, वैद्यनाथ सिंह, बबन बिहारी सिंह, परमेश्वर मिश्र, कामदेव झा, विरेन्द्र झा, अजय सिंह, साबीर अली, रमाशंकर राय समेत कई लोग मौजूद थे।

Sunday, 13 January 2013

चापाकलों का सत्यापन शुरू

बेलसंड। स्थानीय क्षेत्र अभियंत्रण संगठन कार्यक्रम संख्या 1 के सहायक अभियंता राजेन्द्र कुमार के साथ बीडीओ सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने क्षेत्र में भ्रमण कर जिला परिषद द्वारा गाड़े गये चापाकलों के भौतिक सत्यापन का कार्य प्रारंभ किया। इस क्रम में शनिवार को भंडारी पंचायत के बेगाई महतो, रघुनाथ साह व किशोरी मुखिया के घर के निकट गाड़े गये चापाकलों को देखा। ज्ञात हो कि उप विकास आयुक्त द्वारा द्वितीय वर्ष 2011-12 में जिला परिषद क्षेत्र संख्या 8 के पार्षद शीला देवी के अनुशंसा पर गाड़े गये 14 चापाकलों का भौतिक सत्यापन का आदेश दिया गया है।

Saturday, 12 January 2013

नागेन्द्र झा बने बेलसंड प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी

बेलसंड। जदयू के जिला निर्वाची पदाधिकारी अरुण कुमार गोप ने कहा है कि संगठनात्मक चुनाव की प्रक्रिया 15 जनवरी से शुरू होगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षक मो. कमरे आलम की मौजूदगी में 12 जनवरी को प्रखंड इकाई के निर्वाचन पदाधिकारियों की बैठक गांधी मैदान में होगी। साथ ही 15-20 जनवरी तक पंचायत व वार्ड इकाई का चुनाव कराया जाएगा। उन्होंने पार्टी के सभी सांसदों, विधायकों व वरिष्ठ नेताओं से अपने क्षेत्र में संगठनात्मक चुनाव कराने में चुनाव पदाधिकारियों को सहयोग करने की अपील की है। प्रखंड निर्वाची पदाधिकारियों में बथनाहा के लिए उमेश कुमार कापड़ी, डुमरा विकाऊ महतो, मेजरगंज शिवजी राय, बाजपट्टी बिन्दु ठाकुर, रून्नीसैदपुर विनोद सिंह, बेलसंड नागेन्द्र झा, परसौनी राजेश कुमार, पुपरी राम बाबू राय, नानपुर विनय कुमार यादव, बोखड़ा डा. रामचन्द्र राय, सुरसंड नागेन्द्र राय, परिहार तेज नारायण यादव, रीगा राजेन्द्र चौधरी, बैरगनिया मोहन कुमार, सोनबरसा कमलदेव महतो व सीतामढ़ी नगर के लिए बब्लू सिंह शामिल है।

Thursday, 10 January 2013

पोलियो अभियान को ले बैठक

बेलसंड। 20 जनवरी से शुरू होने वाले पोलियो अभियान को सफल बनाने के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की अध्यक्षता में गुरूवार को बैठक हुई। जिसमें अभियान को शत प्रतिशत सफल बनाने के लिए सभी दलकर्मियों को सजग रहने का निर्देश दिया गया। साथ ही अभियान के दौरान घर-घर जाकर शून्य से पांच वर्ष के बच्चों की पहचान कर पोलियो की खुराक देने टैली शीट व एक्स टैली शीट भरने की जानकारी प्रशिक्षक असिनुर रहमान ने दी। डब्ल्यूएचओ के मानिटर अंसार अहमद ने दल कर्मियों को घर-घर जाकर छोटे बच्चों की जानकारी हासिल करने के दस प्रश्नों के बारे में बताया। साथ ही नवजात बच्चों का विस्तृत ब्योरा दर्ज करने के विषय में भी जानकारी दी।

सरकार प्रायोजित योजनाओं की जानकारी ली

बेलसंड। जद यू नेता राणा रणधीर सिंह चौहान ने नगर पंचायत अध्यक्ष नागेन्द्र झा के साथ गुरूवार को इलाके के विभिन्न इलाकों का भ्रमण कर लोगों से सरकार प्रायोजित योजनाओं की जानकारी ली, वहीं लोगों की परेशानी सुनी। इस दौरान श्री चौहान ने भटौलिया महादलित टोला में लोगों से विकास योजनाओं की जानकारी ली। यहां 65 वर्षीय सोनफी राम की ठंड से हुई मौत की जानकारी मिलने पर श्री चौहान ने मृतक की विधवा को एक हजार रुपये की सहायता प्रदान की। उन्होंने मुखिया जय लाल पासवान को विधवा को कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत राशि का भुगतान करने का निर्देश दिया। साथ ही उसके पारिवारिक लाभ योजना का आवेदन तैयार कराकर स्वीकृति के लिए आरटीपीएस में जमा करवाया। भ्रमण के दौरान लोगों ने वृद्धावस्था पेंशन व विधवा पेंशन न मिलने की शिकायत की। विमल देवी, विफिया देवी, माया देवी, मल भोगिया देवी, राजकली देवी, देववतिया देवी व शिव लखन राय आदि ने बताया कि बार - बार आवेदन के बाद भी उन्हें पेंशन का लाभ नहीं मिला है। उन्होंने पीएचईडी द्वारा गाड़े गए चापाकलों का भी निरीक्षण किया। साथ ही सार्वजनिक स्थलों पर नए चापाकल का आश्वासन दिया। विधायक ने की अलाव की व्यवस्था अनुमंडल क्षेत्र में सर्द पछुआ हवा के कारण एक सप्ताह से शीतलहर का कहर जारी है। सर्द हवा के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है। बुधवार की रात तेज पछुआ हवा के साथ रुक-रुक कर हिमपात भी हुआ। हिमपात के कारण सूर्योदय के पूर्व आसमान बिल्कुल साफ था। खपरैल मकान की छतों के अलावा फूस की झोपड़ी पर एवं घास के ऊपर बर्फ के छोटे-छोटे कण चादर के समान फैले हुए थे। सूर्योदय के पश्चात गर्मी के कारण बर्फ के कण पिघल कर सुख गए। बुधवार को दिन भर सूर्य एवं बादल की आंख मिचौली एवं हवा के तेज रफ्तार के कारण कनकनी बनी रही। ठंड से राहत दिलाने के लिए विधायक सुनीता सिंह चौहान ने 15 क्विंटल अलाव पंचायतों के चौक-चौराहों पर गिराकर अलाव की व्यवस्था की। भयंकर शीतलहर के बावजूद अब तक प्रशासन द्वारा अलाव की व्यवस्था नहीं है।

सिंचाई के अभाव में फसल प्रभावित

बेलसंड। राजकीय नलकूप के ठप रहने से किसान फसल के पटवन के लिए पंप सेट पर निर्भर होने को बाध्य है। डीजल के मूल्यों में हमेशा हो रही बढ़ोतरी के कारण पटवन का खर्च लगातार बढ़ता जा रहा है। वैसे भी डीजल चालित पंप सेट से सिंचाई लागत अन्य स्त्रोतों से काफी महंगा है। क्षेत्र के परतापुर, मखनाहा, भोरहा, पचनौर गांव में लगे नलकूप के अलावा क्षेत्र के सभी नलकूप ठप है। नलकूप के पास लगे ट्रांसफार्मर के जल जाने एवं सिंचाई के नालों के ध्वस्त हो जाने तथा नलकूप आपरेटरों के पद रिक्त रहने एवं पदस्थापित आपरेटरों के ड्यूटी से गायब रहने के कारण सभी नलकूप ठप है। भोरहा के निकट मनुषमारा नदी में लगाए गए सिंचाई योजना की यूनिट बगैर चालू हुए ही नष्ट हो गई। बिहार विभाजन के बाद सरकार द्वारा कृषि की बेहतरी के लिए किए जा रहे प्रयासों को इससे काफी क्षति पहुंच रही है। इसके बावजूद लघु जल सिंचाई योजना के अन्तर्गत संचालित इन नलकूपों के जीर्णोद्धार व उसे चालू करने के प्रति आज भी उदासीनता बरती जा रही है। जिससे किसानों की खेती काफी प्रभावित होती है। कृषि को बेहतरी के लिए क्षेत्र के सभी नलकूपों को चालू करने की मांग पर अब तक संबंधित विभाग ने कोई ध्यान नहीं दिया है।

ईमानदारी की मिसाल माने जाने वाले शास्त्री जी

लाल बहादुर शास्त्री एक ऐसी हस्ती थे, जिन्होंने प्रधानमंत्री के रूप में देश को न सिर्फ सैन्य गौरव का तोहफा दिया, बल्कि हरित क्रांति और औद्योगीकरण की राह भी दिखाई। ईमानदारी की मिसाल माने जाने वाले शास्त्री जी किसानों को जहां देश का अन्नदाता मानते थे, वहीं देश के सीमा प्रहरियों के प्रति भी उनके मन में अगाध प्रेम था जिसके चलते उन्होंने 'जय जवान जय किसानÓ का नारा दिया। पाकिस्तान ने 1965 में यह सोचकर भारत पर हमला किया कि 1962 में चीन से लड़ाई के बाद भारत की ताकत कमजोर हो गई होगी, लेकिन शास्त्री जी के कुशल नेतृत्व ने पाक के नापाक इरादों को नाकाम कर दिया और उसे करारी शिकस्त भी दी। महर्षि दयांनद विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर रजनीश सिंह के अनुसार पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति अयूब खान को लाल बहादुर शास्त्री के उन बुलंद हौसलों का अंदाज नहीं था, जिनके चलते पाकिस्तानी हुक्मरान को भारत के नेता के सामने गिड़गिड़ाना पड़ा। सिंह के अनुसार जुलाई 1964 में शास्त्री जी जब राष्ट्रमंडल प्रमुखों की बैठक में भाग लेने लंदन गए तो रास्ते में इंधन भरने के लिए उनका विमान कराची में उतरा जहां उनका स्वागत अयूब खान ने किया। अयूब खान ने शास्त्री जी को देखकर अपने एक सहयोगी से पूछा था कि क्या यही आदमी जवाहर लाल नेहरू का वारिस है। इस घटना का महत्व इसलिए बहुत अधिक था क्योंकि उसके बाद के साल 1965 में अयूब ने कश्मीर घाटी को भारत से छीनने की योजना बनाई थी। पाकिस्तान ने साजिश को अंजाम देते हुए कश्मीर में नियंत्रण रेखा से घुसपैठिए भेजे और पीछे-पीछे पाकिस्तानी फौजी भी आ गए। शास्त्री जी ने दूरदर्शिता दिखाते हुए पंजाब में दूसरा मोर्चा खुलवा दिया। अपने अत्यधिक महत्वपूर्ण शहर लाहौर को भारत के कब्जे में जाते देख पाकिस्तान ने कश्मीर से अपनी सेना वापस बुला ली। इस तरह लाल बहादुर शास्त्री ने अयूब खान की सारी अकड़ निकाल दी। अयूब खान की पाकिस्तान में काफी थू-थू हुई और शास्त्री जी विश्व मंच पर एक प्रभावशाली नेता के रूप में स्थापित हो गए। पाक हुक्मरान ने अपनी इज्जत बचाने के लिए तत्कालीन सोवियत सेंघ से संपर्क साधा जिसके आमंत्रण पर शास्त्री जी 1966 में पाकिस्तान के साथ शांति समझौता करने के लिए ताशकंद गए। इस समझौते के तहत भारत पाकिस्तान के वे सभी हिस्से लौटाने पर सहमत हो गया, जहां भारतीय फौज ने विजय के रूप में तिरंगा झंडा गाड़ दिया था। इस समझौते के बाद दिल का दौरा पडऩे से 11 जनवरी 1966 को ताशकंद में ही शास्त्री जी का निधन हो गया। उनकी मौत की आधिकारिक रिपोर्ट आज तक जारी नहीं हुई है। उनके परिजन मौत के कारणों पर सवाल उठाते रहे हैं। सिंह ने कहा कि शास्त्री जी ने अयूब खान जैसे अहंकारी तानाशाह का घमंड ही चूर नहीं किया , बल्कि उन्हें अपने सामने गिड़गिड़ाने पर मजबूर भी कर दिया था। ताशकंद में खान ने शास्त्री जी से कहा कि कुछ ऐसा कर दीजिए जिससे वह पाकिस्तान में मुंह दिखा सकें। प्रोफेसर सत्यप्रकाश का कहना है कि शास्त्री जी ने देश को सैन्य गौरव का तोहफा ही नहीं दिया, बल्कि हरित क्रांति का सूत्रपात कर कृषि क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने का काम भी किया। उनके दिए गए 'जय जवान जय किसानÓ नारे ने देश के सैनिकों और किसानों में एक नई उमंग और नया जज्बा भरने का काम किया। शास्त्री जी ने देश के विकास की रफ्तार बढ़ाने के लिए उद्योगों को सरकारी नियंत्रण से बाहर निकालने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। लाल बहादुर शास्त्री देश में सादगी भरे और ईमानदार व्यक्तित्व के रूप में जाने जाते हैं ,जो अपने खर्चों के लिए खुद को मिलने वाली तनख्वाह पर निर्भर रहते थे।
बेलसंड। देश की बेटी 'दामिनी' को इंसाफ दिलाने व बिहार की बेटी 'दामिनी' को इंसाफ के साथ जिंदगी बचाने के लिए गुरूवार को महिला संगठनों ने एक बार फिर हुंकार भरी। महिला समाख्या सोसाएटी के तत्वावधान में मौन जुलूस निकाल कर महिलाओं ने देश में तेजी से बढ़ रहीं बलात्कार व छेड़खानी जैसे मामले के विरोध में पोस्टर - बैनर के माध्यम से आवाज उठायी। अनुमंडल मुख्यालय से निकली महिलाओं की जुलूस नगर के मुख्य पथों से गुजरते हुए इंसाफ की आवाज बुलंद करती गई। 'बलात्कारी बाप, बेटा भाई या पति हो कानून सजा दे या नहीं दे हम महिलाएं अवश्य देंगी, दामिनी को इंसाफ दो। होगा भारत का गुणगान, जब होगा मां बहन व बेटी का सम्मान आदि नारे लिखे पोस्टर - बैनर के साथ निकली यह जुलूस नगर पंचायत के कोठी चौक, कदम चौक, रजिस्ट्री चौक, थाना चौक होते हुए प्रखंड कार्यालय तक पहुंची। इस दौरान महिलाओं ने दिल्ली व राजस्थान गैंगरेप के आरोपियों को फांसी देने की मांग की। जुलूस का नेतृत्व महिला समाख्या की सहयोगी चंदा कुमारी, वीणा कुमारी, रंजू कुमारी व संगीता कुमारी ने किया।

Wednesday, 9 January 2013

भवनहीन निकायों को मिलेगा ‘घर’

लोगों को घर मुहैया कराने वाले अनेक नगर निकाय खुद बिना ‘घर’ के हैं। ऐसे भवनहीन निकायों का अब अपना ‘घर’ होगा। ऐसे 19 नगर परिषदों एवं 21 नगर पंचायतों के प्रशासनिक भवन के लिए पुनरींिक्षत योजना को मंजूरी दी गई है। नगर पंचायतों के भवन निर्माण पर प्रति भवन 60 लाख 9 हजार रुपये का खर्च आएगा, जबकि नगर परिषदों के प्रशासनिक भवन को पूरा करने के लिए 72.35 लाख की दर से योजना को मंजूरी देने की कार्रवाई चल रही है। नगर परिषदों में तीन पूर्णिया, कटिहार और मुंगेर तो अब नगर निगम में परिवर्तित हो चुके हैं।
नगर विकास मंत्री के अनुसार 42 नगर परिषदों में से 37 नगर परिषदों एवं 86 नगर पंचायतों में से 63 नगर पंचायतों में प्रशासनिक भवन निर्माण कराया जा रहा है। प्रथम चरण में 21 नगर पंचायतों एवं 19 नगर परिषदों की योजनाओं को पुनरीक्षित करते हुए इसी वित्तीय वर्ष में समाप्त करने का निर्देश दिया गया है। शेष निकायों के लिए अगले वित्तीय वर्ष में राशि उपलब्ध कराई जाएगी।
भवन निर्माण कराया जा रहा
मुरलीगंज, बनमनखी, नवगछिया, बरबीघा, चकिया, बहादुरगंज, दाउदनगर, वीरपुर, मनेर, झंझारपुर, कहलगांव, कांटी, बरौली, कसबा, झाझा, बेलसंड, विक्रमगंज, मैरवा, रफीगंज एवं डुमरा।
नगर परिषद : किशनगंज, अररिया, बेतिया, मधुबनी, पूर्णिया (अब नगर निगम), कटिहार, (अब नगर निगम), सुपौल, हाजीपुर, सासाराम, बक्सर, डिहरी , डालमियानगर, नरकटियागंज, फारबिसगंज, मसौढ़ी, खगड़िया, भभअुा, समस्तीपुर, औरंगाबाद एवं मुंगेर (अब नगर निगम

Tuesday, 8 January 2013

ठंड का कहर,चेयरमैन के आदेश पर अलाव का प्रबंध

बेलसंड। ठंड ने शनिवार को पारा एकाएक गिर गया। जिससे आम जन जीवन ठहर सा गया। चौराहों पर लोग ठंड से कांपते दिखाई दिए। दो तीन दिन से एकाएक ठंड बढ़ गई है। नगर पंचायत अपने स्तर से शहर के लगभग ग्यारह जगहों पर अलाव की व्यवस्था करेगी। ताकि ठंड से राहत दिलाई जा सके। नगर पंचायत के प्रवक्ता ने बताया कि पालिका अध्यक्ष के निर्देश पर अलाव की व्यवस्था की जा रही है। हर जगह पर पचास किलो लकड़ी डलवाई जाएगी। इसके लिए संबंधित कर्मचारियों की टीम शाम तक सभी चयनित किए गए स्थानों पर जाकर अलाव लगाकर सूचित करेगी। इन जगहों पर जलेगा अलाव शहर के प्रमुख कदम चौक,रजिस्ट्री चौक, स्कूल रोड, पूरवारी मठ, गर्ल हाईस्कूल, मल्लाहटोली, बसौल घाट, बसौल गांव, बसौल चौक, सरैया, बेलसंड खुर्द, एसजीएस हाईस्कूल, चंदौल हाईस्कूल, छप्पनबीघा आदि तमाम जगहों पर अलाव जलाने का प्रबंध है। नगर पंचायत प्रवक्ता ने कहा कि पालिका अध्यक्ष के आदेश पर अस्पताल गेट के पास विशेष अलाव की व्यवस्था होगी ताकि मरीजों के परिजनों को कोई परेशानी ना हो। ऐसा पहली बार हुआ है कि नगर पंचायत में अलाव जलाने का प्रबंध हुआ है।
 'लोगों को ठंड से बचाने के लिए पहली बार शहर के प्रमुख स्थानों पर अलाव की व्यवस्था की गई है। ठंड से लोगों को बचाने के लिए किसी तरह की कमी नही की जाएगी।
 नागेंद्र झा नगर पंचायत अध्यक्ष

निर्माण की गति करें तीव्र

बेलसंड। बेलसंड छतौनी पथ में मनुषमारा नदी पर निर्माणाधीन पुल के निरीक्षण के दौरान बिहार राज्य पुल निर्माण निगम के वरीय परियोजना अभियंता अरविन्द कुमार ने समय सीमा के अंदर पुल निर्माण पूरा होने का भरोसा दिलाया। बेलसंड विधायक सुनीता सिंह चौहान व किसान प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष राणा रणधीर सिंह चौहान ने नगर पंचायत अध्यक्ष नागेन्द्र झा के साथ पुल निर्माण का निरीक्षण किया। विधायक ने निर्माणाधीन कार्य को देखा व लाइफ लाईन पुल के निर्माण की गति को तेज करने का निर्देश निगम के अभियंताओं को दिया। वरीय परियोजना अभियंता के साथ सहायक अभियंता एवं कनीय अभियंता भी मौके पर उपस्थित थे। ज्ञात हो कि इस स्थल पर 84 मीटर लंबा एवं 12 मीटर चौड़ा पुल का निर्माण करना है। चार स्पेन में पुल के निर्माण के लिए बेल फाउंडेशन का कार्य प्रारंभ किया जा चुका है। पूर्व में पुल के टूट कर नदी में गिर जाने के कारण बेल फाउंडेशन के लिए पुल को थोड़ा सा दक्षिण दिशा में हटाकर बनाया जा रहा है। निर्माण में खुशनंदन साह व सुरेन्द्र साह की जमीन का उपयोग करने की बात उठाई गयी। जमीन की पैमाइस के लिए अमीन राम सागर राय की सेवा ली गई। अमीन की नापी प्रतिवेदन के आलोक में पुल निर्माण कार्य में निजी जमीन परियोजना द्वारा अधिग्रहण की बात कही गई। अभियंता ने बताया कि डेनेज डिवीजन द्वारा भी जमीन अधिग्रहण की कार्रवाई की जा रही है। इस कारण जमीन अधिग्रहण के बगैर कार्य की शंका उत्पन्न हो गई है। विधायक के निर्देश के आलोक में परियोजना अभियंता ने आवश्यकतानुसार जमीन अधिग्रहण करने का आश्वासन दिया।

बेलसंड विधायक पति को छात्रों ने बंधक बनाया

बेलसंड। प्रखंड स्थित कस्तूरवा बालिका विद्यालय के छात्रओं ने मंगलवार को बेलसंड विधायक प्रतिनिधि राणा रणधीर सिंह चौहान को घंटो बंधक बनाए रखा। विद्यालयों में व्याप्त कुव्यवस्था के खिलाफ छात्रओं में गहरा आक्रोश था। क्षेत्र भ्रमण के दौरान राणा रणधीर सिंह चौहान मध्य विद्यालय ढांगर पहुंचे। जहां आक्रोशित छात्रओं ने उनको घेर लिया। छात्रओं ने नारेबाजी करते हुए विधायक पति पर समस्या का समाधान नहीं कराने का आरोप लगाया। छात्रओं का कहना था कि कई बार विधायक को विद्यालय के समस्याओं के बारे में अवगत कराया गया। परन्तु वे इस ओर ध्यान देना मुनासिब नहीं समङो। छात्रओं का आरोप था कि भोजन में गुणवत्ता का अभाव रहता है। इस कड़ाके के ठंड में पर्याप्त वस्त्रों की आपूर्ति भी नहीं की जा रही है। विद्यालय प्रबंधन द्वारा छात्रओं के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता है। छात्रओं का कहना था कि विद्यालय में चाहरदीवारी नहीं होने से आसपास के मनचलों का जमावड़ा लगने से अपने को असुरक्षित महसूस करती है। इस बाबत विधायक पति ने विभागीय पदाधिकारियों पर ठिकरा फोरते कहा कि उनके द्वारा कई बार इस संबंध में ध्यान आकृष्ट कराया गया है। बावजूद विभाग लापरवाह है। श्री सिंह ने छात्रओं को आश्वासन देते हुए कहा कि मानव संसाधन विभाग से वार्ता कर समस्या का शीघ्र निराकरण कराया जाएगा। श्री सिंह के आश्वासन के बाद छात्रओं का गुस्सा शांत हुआ और वे मुक्त हुए।

Sunday, 6 January 2013

हादसों में दस की मौत

उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों में हादसों में नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि दर्जन भर घायल हो गए। इसमें शिवहर में छह, मोतिहारी, मधुबनी, समस्तीपुर व मुजफ्फरपुर में एक-एक लोगों की मौत हुई है। बेलसंड। तरियानी थाना क्षेत्र के सोनबरसा गांव में शनिवार की रात करीब एक बजे ट्रक पलटने से पांच मजदूरों की मौत तालाब में डूबने से हो गई, जबकि दर्जन भर घायल हो गए। घटना उस वक्त घटी जब आसपास के 32 मजदूर रोहतास जिले से धान की कटनी एवं दौनी कर मजदूरी में मिले करीब दो सौ क्विंटल धान ट्रक पर लेकर अपने गांव लौट रहे थे। सोनबरसा ग्रामीण सड़क पर जैसे ही ट्रक एक किलोमीटर गई, पटोरी देवी स्थान के पास तालाब में पलट गई। ट्रक में लदे धान के ऊपर बैठे सभी मजदूर पानी में जा गिरे। ऊपर से धान के बोरों से दब गए। घटना अर्धरात्रि की है। सूचना मिलने पर तरियानी थानाध्यक्ष संजय सिंह पहुंचे। इधर जिला मुख्यालय से डीएम अनिल कुमार, एसडीओ मो. वारिस खान, डीएसपी एसएम वकील अहमद सहित अन्य पदाधिकारी पहुंचे। गोताखोरों व ग्रामीणों के सहयोग से काफी मशक्कत के बाद पांच शवों को निकाला गया। उनकी पहचान देवेन्द्र राय(32) पिता रघुनाथ राय, मनोज राम(30) पिता रामेश्वर राम, संजय राम(30) पिता चरितर राम, विजय सहनी(33) पिता जनक सहनी सभी सोनबरसा निवासी एवं नरेश सहनी(28) पिता जवाहर सहनी ग्राम औरा के रूप में हुई। सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए सीतामढ़ी भेज दिया गया है। डीएम ने दुर्घटना स्थल पर जेसीबी मशीन व क्रेन भी बुलाया, जिसकी मदद से दुर्घटनाग्रस्त ट्रक यूपी एआर-1735 को निकाला गया। घटना में रोहतास से साथ आए किसान संतोष तिवारी, गुड्डू तिवारी, बीपी सिंह, मंडल पासवान के साथ मजदूर बिकाऊ कुमार, जयमंगल राम, हरिनंदन राम, दिनेश पासवान, सोमनाथ राय, परीक्षण राम, संजीव राम आदि घायल हुए हैं जो निजी तौर पर इलाज करवा रहे हैं। जबकि ट्रक चालक एवं खलासी फरार है। सोनबरसा व औरा के पांच युवकों की मौत के बाद गांव चीख व चीत्कार का माहौल है। मृतक के परिजनों को पारिवारिक लाभ योजना के तहत तत्काल 10 हजार रुपये एवं कबीर अंत्येष्टि के तहत पंद्रह सौ रुपये दिए गए हैं।
घटनास्थल पर विधायक सुनीता सिंह चौहान, जदयू नेता राणा रणधीर सिंह चौहान,बेलसंड नगर पंचायत अध्यक्ष नागेंद्र झा, मुखिया भानू पासवान, जदयू के प्रखंड अध्यक्ष मनोज कुमार, पंसस बच्चा प्रसाद सिंह, विश्वंभरपुर के पैक्स अध्यक्ष दिनेश साह सहित मुखिया अरविन्द कुमार समेत आसपास के सैकड़ों लोग मौजूद रहे। इधर,शिवहर-पिपराही स्टेट हाईवे 54 पर मेसौढ़ा गांव के समीप ट्रैक्टर की ठोकर से अम्बा कला नंदलाल गिरि की मौत हो गई। पूर्वी चंपारण के थाना क्षेत्र के राजापुर मठिया चौक के समीप राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 28 पर ट्रक पलटने से चालक सुनील यादव की मौत हो गई। मधुबनी के दसलाख चौक के निकट रेलवे कैंपस स्थित बस स्टैंड में सवारी टैक्सी से कुचलकर दानापुर गांव के रामचलित्तर शर्मा की मौत हो गई। समस्तीपुर के विद्यापतिनगर-महनार मुख्य पथ पर पिकअप वैन की चपेट में आने से नजबुल खातून ने दम तोड़ दिया। वहीं मुजफ्फरपुर के तुर्की ओपी के एनएच 77 स्थित मधौल के समीप हाइवा की ठोकर से बाइक सवार युवक की मौत हो गई। मृतक वैशाली जिला अंतर्गत भगवानपुर थाना के सहथा गांव का निवासी राकेश कुमार श्रीवास्तव (35 वर्ष) बताया गया है। हाइवा गैमन इंडिया का बताया गया है।

Saturday, 5 January 2013

बेलसंड-चंदौली सड़क की बदहाली से परेशानी

बेलसंड। बेलसंड-चंदौली सड़क की बदहाली लोगों के लिए परेशानी का कारण बना है। पथ निर्माण विभाग की बेलसंड मीनापुर सड़क का यह भाग बाढ़ एवं बरसात के कारण काफी जर्जर हो चुका है। इस सड़क पर जगह-जगह गड्ढे बन जाने से सड़क का अस्तित्व समाप्त हो चुका है। गड्ढों की वजह से सड़क की पहचान कठिन हो गया है। इन सड़कों पर तीव्र गति से चलाने वाले आटो रिक्शा हमेशा दुर्घटना के शिकार होते रहते है। जर्जर सड़क और उस पर अनियंत्रित गति से आटो रिक्शा चलने के कारण पैदल चलने वालों को भी काफी कठिनाई होती है। खासकर बरसात के मौसम में जब गड्ढे पानी से भर जाते है, तब यात्रियों को हमेशा दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। इस पथ में चंदौली तटबंध के बाद सड़क का निशान भी नहीं बचा है।

Friday, 4 January 2013

लोहासी को निर्मल पंचायत बनाने का कार्य शुरू

बेलसंड। जिला जल एवं स्वच्छता समिति के तत्वावधान में प्रखंड के चयनित एक मात्र लोहासी को निर्मल पंचायत बनाने का काम गुरुवार से शुरू हो गया। मुखिया जग्रन्नाथ राय ने बताया कि इस पंचायत के वार्ड नंबर दस में सर्व प्रथम शौचालय का निर्माण प्रारंभ किया गया। इस योजना के तहत जनक शर्मा, गोरख शर्मा, परीक्षण महतो, लाल बाबू महतो, कमोद महतो, दिनेश महतो ने शौचालय का निर्माण प्रारंभ कर दिया गया है। इस पंचायत में इसके अन्तर्गत सभी वाडरे के शौचालय विहिन परिवारों को शौचालय का निर्माण एक दो दिनों के अंदर प्रारंभ कर दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त जगह-जगह पर कूड़ादान, जल निकासी के लिए नाला, जल आपूर्ति के लिए मिनी जल मिनार एवं आवश्यकतानुसार चापाकल भी गाड़े जायेंगे। ट्रक समेत कोयला जब्त दो गिरफ्तार पकड़ीदयाल, अनुप्र : स्थानीय पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर छापेमारी कर ढाका-पकड़ीदयाल पथ पर बड़कागांव के समीप तस्करी का एक ट्रक कोयला जब्त किया। साथ ही झारखंड के कोडरमा निवासी वाहन मालिक बैद्यनाथ यादव व ट्रक चालक प्रकाश यादव को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। ट्रक पर लगभग बीस टन कोयला लदा हुआ है।

बेलसंड दूरभाष केंद्र में ऊर्जा की कमी

बेलसंड। बेलसंड दूरभाष केन्द्र में ऊर्जा की कमी की वजह से भारतीय दूरसंचार निगम की मोबाइल सेवा हमेशा बाधित रहती है। दिन में जेनरेटर सेट के माध्यम से ऊर्जा प्राप्त होने पर सुबह से दस बजे रात तक अनुमंडल मुख्यालय के आसपास इसका नेटवर्क कार्य करता है। लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में नेटवर्क अनुपलब्ध रहने के कारण मधकौल, भंडारी, जाफरपुर सौली, रूपौली, ओलीपुर, लोहासी, दमामी इत्यादि गांव के उपभोक्ता इससे त्रस्त है। इस संबंध में पूछे जाने पर बेलसंड दूरभाष केन्द्र के तकनीशियन सुरेन्द्र झा ने बताया कि इस दूरभाष केन्द्र की बैट्री पुराना होने के कारण खराब हो गई है। जिससे समस्या उत्पन्न होती है। बैट्री के बदले बिना इस समस्या से निजात संभव नहीं है। इस संबंध में नगर पंचायत अध्यक्ष नागेंद्र झा ने कहा कि इससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि मैं खुद बीएसएनएल का ग्राहक हूं। अगर ऐसा ही हाल रहा तो संबंधित अधिकारियों से इसकी शिकायत करनी पड़ेगी।

चेयरमैन ने कराया जिलाधिकारी को समस्याओं से अवगत


बेलसंड। बेलसंड नगर पंचायत अध्यक्ष नागेन्द्र झा ने बीडीओ कक्ष में जिलाधिकारी अश्विनी दतात्रेय ठकरे से मिलकर नगर पंचायत की समस्याओं से अवगत कराया। उन्होंने नगर पंचायत में हो रहे विकास कार्यों से भी जिलाधिकारी को बताया और हरसंभव मदद एवं मार्गदर्शन मांगा।
इन्होंने 2008 से ही मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के लाभार्थियों को भुगतान नही होने की बात जिलाधिकारी से कहीं। उन्होंने कहा कि इससे जनता में रोष फैल रहा है। नगर पंचायत अध्यक्ष ने  पारिवारिक लाभ योजना के 19 आवेदन लंबित होने, बीपीएल एवं अंत्योदय योजना के खाद्यान्न वितरण में अनियमितता, मुख्य सड़क के जर्जर नाले से जल जमाव की समस्या से निजात के लिए आरसीसी नाला का निर्माण कराने, नगर पंचायत के पूर्वी भाग के 5 वाडरे में आवागमन के लिए नाव व चचरी पुल के उपयोग होने की जानकारी देते जीर्णोद्धार की मांग शामिल है।
इसके साथ ही अध्यक्ष ने प्रखंड कार्यालय परिसर में नव निर्मित गोदाम में बिहार राज्य खाद्य निगम द्वारा खाद्यान्न रखने एवं अनुमंडल क्षेत्र के जन वितरण प्रणाली के विक्रेताओं को यही से खाद्यान्न उपलब्ध कराने की व्यवस्था करने का अनुरोध किया। डीएम ने नगर पंचायत अध्यक्ष के बातों को बड़ी ही गंभीरता से सुना और हरसंभव मदद देने की बात कहीं। जिलाधिकारी ने बेलसंड बीडीओ को मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के आवेदनों को अविलंब आरटीपीएस में डालकर उसका निष्पादन करने का निर्देश दिया। अन्य मांगों के संबंध में भी आवश्यक कार्रवाई कर समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया। जिलाधिकारी ठाकरेे ने नगर पंचायत अध्यक्ष की बातों को बड़े ध्यान से सुना और उनके द्वारा किए जा रहे कार्यों की सराहना की। जिलाधिकारी ने कहा कि बहुत दिनों बाद कोई अच्छा नेता से मेरी मुलाकात हुई है।

Thursday, 3 January 2013

नीतीश सरकार में नौ मंत्री करोड़पति

बेलसंड/पटना। बिहार में लगातार तीसरे वर्ष सार्वजनिक की गई संपत्तियों के ब्यौरे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से अमीर उनके मंत्रिपरिषद के सदस्य रहे जिसमें शिक्षा मंत्री प्रशांत कुमार शाही 4.64 करोड की जायदाद के साथ इस बार भी शीर्ष पर रहे। वर्ष 2012 के लिए सार्वजनिक किए गए संपत्तियों के ब्यौरे  के मुताबिक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चल और अचल संपत्ति मिलाकर 46.10 लाख रुपए है जबकि उनक इकलौते पुत्र उनसे धनी हैं। मुख्यमंत्री के पुत्र निशांत कुमार के पास 77.57 लाख रुपए की चल और अचल संपत्ति है।  नीतीश सरकार के मंत्रियों में सबसे अधिक संपत्ति 4.64 करोड रुपए शाही ने घोषित की है जबकि सबसे कम श्रम संसाधन मंत्री जनार्दन सिंह सिग्रीवाल की है। सिग्रीवाल ने दावा  किया है कि उनके पास 15.05 लाख रुपए की चल और अचल संपत्ति है। राज्य में कुल 28 मंत्री हैं और सिग्रीवाल और अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री शाहिद अली खान के पास ही नीतीश कुमार से कम संपत्ति है। सिग्रीवाल ने 15.05 लाख जबकि खान ने 17.20 लाख की संपत्ति की घोषणा की है।  नीतीश सरकार में नौ मंत्री करोड़पति हैं उनके पास एक करोड से अधिक की चल और अचल संपत्ति है। शाही के बाद सबसे अधिक खनन एवं भूतत्व मंत्री सत्यदेव नारायण आर्य के पास 2.77 करोड रुपए की संपत्ति है और तीसरे नंबर पर कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह हैं जिनकी संपत्ति 2.46 करोड की है।  पिछली बार की तरह इस बार भी मंत्रियों द्वारा घोषित किए गए ब्यौरे के प्रारुप में एकरुपता नहीं है। कई मंत्रियों ने सोने चांदी के आभूषण और अपने वाहनों की कीमत का ब्यौरा नहीं दिया है।  विधानसभा चुनाव 2010 के बाद से मुख्यमंत्री और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी, विधायक, विधान पार्षद और सरकारी कर्मचारी प्रतिवर्ष अपनी संपत्ति का ब्यौरा सार्वजनिक करते हैं।  राज्य के परिवहन मंत्री वृशिन पटेल 1.94 करोड रुपए की चल और अचल संपत्ति के स्वामी हैं जबकि कानून मंत्री नरेंद्र नारायण यादव के पास 1.28 करोड रुपए की संपत्ति है। ग्रामीण विकास मंत्री नीतीश मिश्रा के पास कुल 1.39 करोड
रुपए की संपत्ति है। मिश्रा ने 1.06 करोड रुपए का एलआइसी से बीमा भी कराया है।  मंत्रिमंडल में सबसे अधिक अमीर शिक्षा मंत्री प्रशांत कुमार शाही है जिनकी कुल चल और अचल संपत्ति 4.64 करोड रुपए है। वहीं उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी 75.44 लाख रुपए की संपत्ति के मालिक हैं। उन पर बैंक और विभिन्न वित्तीय संस्थाओं की कर्ज के रूप में 23 लाख रुपए से अधिक की देनदारियां हैं।  कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह के पास 2.46 करोड की जबकि उनकी पत्नी के पास 1.13 करोड की संपत्ति हैं। नीतीश कुमार घनिष्ठ सहयोगी और जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी के पास 46.30 लाख रुपए की संपत्ति है। उनकी पत्नी गंगा चौधरी अपने पति से अधिक अमीर हैं जिनके पास 78.70 लाख की संपत्ति है।  गन्ना मंत्री अवधेश कुमार कुशवाहा के पास कुल 1.45 करोड रुपए की संपत्ति की है जबकि खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्याम रजक के पास 1.09 करोड रुपए की संपत्ति है। उद्योग मंत्री रेणु कुमारी के पास कुल 85.26 लाख की संपत्ति है। नगर विकास एवं आवास मंत्री के पास 56.59 लाख रुपए की संपत्ति है। समाज कल्याण मंत्री परवीन अमानुल्लाह के पास 64.96 लाख की संपत्ति है।

Tuesday, 1 January 2013

सीधे समाचार पत्रों को प्रकाशनार्थ न भेजा जाए टेंडर

 बेलसंड/पटना| नगर निकायों में टेंडर के नाम पर खेल तो नहीं चल रहा है? विभागीय स्तर पर काम में गड़बड़ी को देखते हुए सरकार ने टेंडर से निकायों में काम कराने कराती है। अब इसमें भी लगता है लोगों ने उपाय निकाल लिया है।
नगर विकास विभाग को भी इसकी शिकायत मिली है। शिकायत ऐसी कि इसका प्रकाशन प्रमुख समाचार पत्रों में नहीं होता। निकाय द्वारा सीधा अपने स्तर पर भी विज्ञापन जारी कर रहे हैं। इसमें गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए नगर विकास विभाग ने सभी नगर आयुक्तों, सभी जिला शहरी विकास अभिकरण के कार्यपालक अभियंताओं और नगर परिषदों व नगर पंचायतों के कार्यपालक अधिकारियों को निर्देश दिया है कि समाचार पत्रों में निविदा का प्रकाशन सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के माध्यम से ही कराया जाए। सीधे समाचार पत्रों को प्रकाशनार्थ न भेजा जाए। साथ ही निविदा के प्रकाशन के एक सप्ताह के अंदर बिना चूक के समाचार पत्र की कतरन विभाग को उपलब्ध कराई जाए।